June 1, Global parents day 2021 theme, History and signification माता-पिता


Global parents day 2021

यह पोस्ट मेरे और सभी के माता पिता को समर्पित है जिन्होंने इतने मुस्किलो के बावजूद अपने बच्चे के प्रति सारी जिम्मेदारियों को पूरी निष्ठा से निभाया, जबकि आजकल इतनी सारी मुश्किलें आ रही है। मेरा प्रणाम है उन माता पिता को जिन्होंने अपने बच्चे को वित्तीय, मानसिक, भावनात्मक, और बुनियादी सहायता करना जारी रखा।


History of parents day

1993 के अपने संकल्प में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने ये फैसला किया की 15 मई को international parents day के रूप में मनाया जायेगा 

आगे चल के यह महसूस किया गया कि माता-पिता परिवारों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, और इसलिए 2012 में, महासभा ने सभी माता-पिता की सराहना करने के लिए
international parents day समर्पित किया। 

महासभा ने 1 जून को माता-पिता के वैश्विक दिवस के रूप में घोषित किया, जिसे दुनिया भर में माता-पिता के सम्मान में प्रतिवर्ष मनाया जाना है।

यह माना गया कि बच्चों के पालन-पोषण देख रेख और सुरक्षा की प्राथमिक जिम्मेदारी माता-पिता की होती है। अपने व्यक्तित्व के पूर्ण शारीरिक, मानसिक विकास के लिए बच्चों को पारिवारिक माहौल में और खुशी, प्यार और समझ के माहौल में बड़ा होना चाहिए।



Global parents day 2021 theme

कोरोनावायरस महामारी ने दुनिया भर में माता-पिता की जिम्मेदारियों को बहुत ही ज्यादा बढ़ा दिया है। परिवार के सबसे समझदार और हमारे समुदायों और समाजों की नींव होने के नाते, संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे अपने परिवारों को नुकसान से बचाएं, घर से स्कूल जाने वाले बच्चों की देखभाल करें। साथ ही माता-पिता को भी अपनी काम की जिम्मेदारियों को जारी रखना होगा। इसलिए, कृतज्ञता की अभिव्यक्ति के रूप में, माता-पिता के वैश्विक दिवस के लिए इस वर्ष की थीम “दुनिया भर में सभी माता-पिता की सराहना करते है”।

यह थीम दुनिया भर के सभी माता-पिता को समर्पित है, जो अपने बच्चों को वित्तीय, मानसिक, भावनात्मक और बुनियादी सहायता प्रदान करना जारी रखते हैं। अपने अतिरिक्त काम और जिम्मेदारी के बावजूद, माता-पिता यह सुनिश्चित कर रहे हैं, कि वे अपने बच्चों की रक्षा कैसे करें।



Global parents day 2021

संयुक्त राष्ट्र ने सभी माता पिता के बलिदानों को मान्यता दी है।और नियोक्ताओं से परिवार के अनुकूल कार्यस्थल, नीतियों और प्रथाओं को पेश करने का आग्रह किया है। इस तरह की प्रगतिशील प्रथाओं के माध्यम से, संयुक्त राष्ट्र का मानना ​​​​है, कि कंपनियां और संगठन बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करने, और अपने कर्मचारियों को एक ही समय में व्यवस्थित सहायता प्रदान करने में सक्षम नहीं होंगे।

महामारी ने दिखाया है कि, बच्चों के लिए नकारात्मक परिणामों को कम करने के लिए, कामकाजी परिवारों का समर्थन करना कितना आवश्यक है। और इस काम को परिवार के बड़ों के अलावा और कोई नहीं कर सकता।

सिर्फ माता पिता और परिवार ऐसे इंसान है, जो चाहते हैं की उनका बच्चा उससे भी अधिक ऊंचा जाए, और उनसे भी ज्यादा नाम करे नही तो दुनियां में ऐसा कोई नहीं है जो चाहता है कि उससे अधिक अच्छा कोई और करे या उससे अच्छा कोई और बने, चाहना तो दूर की बात है यहां तो लोग खुद के अलावा दूसरे को सिर्फ नीचा दिखाने का काम करते हैं, इसलिए आप अपनें माता पिता और अपने परिवार का सम्मान करें उनको जितना हो सके उतना गर्व महसूस करवाएं, और बहुत लोग होते है की अपने माता पिता को बूढ़े होते ही वृद्धा आश्रम में छोड़ देते हैं, यार वो ये क्यों नही सोचते जिसको वो अभी इतना कष्ट दे रहें हैं, बचपन से उन्होंने ही आपके सभी कष्टों को अपने पर लेकर आपको कष्ट नहीं होने दिया है। 



Best quotes of international parents day

बहुत ही कड़वा सच, 

माता-पिता की नसीहत सबको बुरी लगती है,
लेकिन माता-पिता की वसीयत सबको अच्छी लगती है।

माता पिता के बिना घर कैसा होता है, 
अगर इसका अनुभव करना है तो, एक दिन अपने अंगूठे के बिना अपनी उंगलियों से सारे काम कर के देखो माता-पिता की कीमत पता चल जायेगी।

माता-पिता की जितनी जरूरत हमें बचपन में होती है,
उतनी ही जरूरत बुढ़ापे में उनको हमारी होती है… 

क्या खूब लिखा है किसी ने, संगत का जरा ध्यान रखना साहब क्योंकि संगत आपकी खराब होगी और बदनाम मां बाप और उनके संस्कार को किया जायेगा।

मां बाप पर भी उतना ही विश्वास रखो, जीतन दवाइयों पर रखते हो बेशक थोड़े कड़वे होंगे लेकिन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद होंगे।

Thanks for Reading my Post…

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: