A triangular true love story in Hindi

A triangular true love story in Hindi, प्लीज मत जाओ

heart touching true love story in Hindi
Latest heart touching true love story in Hindi, प्लीज मत जाओ

Hi friends मेरा नाम आनंद कुमार शुभम है, और आज मैं आपके साथ एक ऐसी, प्यारी सी heart touching true love story (in Hindi), शेयर करने जा रहा हूं, जो मेरी खुद की देखी हुई है, और यह लव स्टोरी आपको जरूर से जरूर पसंद आएगी, अगर आप इसे पूरा पढ़ते हैं तो।

ऐसा लड़का जिसको सिर्फ पढ़ाई से मतलब था।

इस heart touching true love story (in Hindi) में एक लड़का है, जिसका नाम शुभांशु है, जो कि दसवीं कक्षा में पढ़ रहा था, वह पढ़ने में बचपन से ही अच्छा था, और जब वह दसवीं कक्षा में गया, तो उसने एक कोचिंग ज्वाइन करी, उस कोचिंग में कुल 40 बच्चे पढ़ते थे, जिसमें से कि 22 लड़के और 18 लड़कियां थी, और उन 22 लड़कों में शुभांशु भी एक था। शुभांशु कोचिंग के सर का बहुत पसंदीदा स्टूडेंट था, क्योंकि वह पढ़ने में बहुत अच्छा था, और उसका बर्ताव भी बहुत अच्छा था, उसी कोचिंग में एक लड़की पढ़ती थी जिसका नाम दिशा था, वह भी पढ़ने में बहुत अच्छी थी, दिशा का भी किसी से कोई मतलब नहीं, बस उन दोनों को पढ़ाई से मतलब होता था, शुभांशु एक तो पढ़ना चाहता और दूसरी बात सर का फेवरेट था इसलिए सभी चाहते थे कि शुभांशु से दोस्ती हो, लेकिन वह किसी से बात ही नहीं करता था।

शिक्षक दिवस का समय,

फिर 1 दिन समय आया शिक्षक दिवस का, सभी लोग चाहते थे कि शिक्षक दिवस मनाए, इसलिए सभी लोगों ने शिक्षक दिवस को लेकर बात करनी शुरू कर दी, और सभी मान भी गए, फिर सभी लोग आए शुभमन के पास, और उसको सब ने बोला तुम भी हमारे साथ शामिल हो जाओ, तो वह बोला नहीं तुम सब करो, फिर दिशा ने कहा प्लीज तुम भी हमारे साथ शामिल हो जाओ, तो फिर वह मान गया, सभी ने मिलकर सोचा कि हम एक व्हाट्सएप का ग्रुप बनाते हैं, जिसमें हमारे सभी दोस्त रहेंगे और उसमें शुभांशु को भी शामिल कर लिया। 

और आप सभी लोग व्हाट्सएप के ग्रुप में बातें करते थे कुछ जरूरी बात पूछनी होती थी तो वह पूछते थे कुछ क्वेश्चन के आंसर जानना चाहते थे तो वह पूछते थे और उसमें से शुभांशु भी एक था, लेकिन वह ग्रुप में किसी के कुछ भी मैसेज का रिप्लाई नहीं देता था बस वह पढ़ लेता था। ग्रुप में बहुत सारे बच्चे थे सभी लोग चाहते थे कि शुभांशु भी बाकी सब की तरह बातें करें लेकिन वह नहीं करता था। 

very sad true heart touching love story in Hindi


दिशा और शुभांशु की पहली चैट,

फिर एक दिन दिशा ने व्हाट्सएप के ग्रुप में से, शुभांशु का नंबर निकाल लिया, उसने शुभांशु को पर्सनली मैसेज किया उसमें दिशा में हाय लिखा था, फिर शुभांशु ने रिप्लाई दिया कौन हो आप, तो दिशा ने कहा पहचानो मैं कौन हूं, तब सुमन ने कहा मुझे नहीं पहचाना बताना है तो बताओ कौन हो, तो उसने कहा मैं दिशा हूं, तो शुभांशु ने कहा ohh! तुम हो, तुमने मेरा नंबर क्यों निकाला बोलो कुछ काम है, तो दिशा ने कहा नहीं बस यूं ही।

फिर दिशा ने कहा मुझे तुमसे कुछ Maths के क्वेश्चन पूछने थे, मुझसे वो solve नहीं हो रहा है, तो क्या तुम मेरी हेल्प करोगे उसको सॉल्व करने में, तो शुभांशू ने कहा हां क्यों नहीं पूछो कौन सा क्वेश्चन पूछना है, तो फिर उसने Maths के कुछ क्वेश्चन पूछे, और शुभांशु उसको सॉल्व किया। 

अब दोनों की बातें होने लगी क्वेश्चन पूछने के बहाने से ही सही, अब व्हाट्सएप के साथसाथ कोचिंग में भी दोनों की बातें होती थी, फिर दोनों में अच्छी दोस्ती हो गई, और फिर 1 दिन किसान ने शुभांशु से पूछा कि तुम्हारी कोई GF है, तो शुभांशु ने कहा नहीं मैं यह सब नहीं करता, तो दिशा ने कहा हां तो फिर ठीक है, सुधांशु ने कहा क्यों तुमने ऐसा क्यों पूछा, दिशा ने कहा नहीं कुछ नहीं बस ऐसे ही, फिर धीरेधीरे दिशा की कुछ सहेलियां से भी दोस्ती हो गई, और दिशा जैसे शुभांशु से बात करती थी, जैसे कि वह शुभांशु से प्यार करती हो, और दिशा की सहेलियां भी ऐसे ऐसे दिशा के बारे में इशारे देती थी, तो शुभांशु को ऐसा लगने लगा की दिशा उससे प्यार करती है, शुभांशु को भी दिशा अच्छी लगती थी।

दिशा का प्रपोजल

और बस यही सोच में शुभांशु को भी दिशा से प्यार हो गया, और एक दिन दिशा ने सामने से शुभांशु को प्रपोज कर दिया, तो शुभांशु बहुत खुश हो गया, और शुभांशु दिशा के लिए बहुत कुछ करता था, रोज रोज उसको समझाता था पढ़ाई में, उसके सारे प्रॉब्लम्स को सॉल्व करता था, अगर उसको कोई प्रॉब्लम होती थी तो, शुभांशु सबसे आगे रहता था उसको सॉल्व करने में, शुभांशु उसकी हर चीज में मदद करता था, उसके लिए अपने घर से झूठ बोलकर उसको छोड़ने जाता था, वह कहीं दूर रहती थी तो उसको लाने जाता था, उसको पढ़ाई में मदद करने के लिए अपना खुद नहीं पढ़ पाता था, उसके लिए रात रात भर जागकर नोट्स बनाता था,

sad true heart touching love story in Hindi

दिशा ने कहा मैं तुमसे प्यार नहीं करती,

फिर एक दिन दिशा ने कहा मैं तो सिर्फ मजाक कर रही थी, मैं तुमसे प्यार नहीं करती हम अच्छे दोस्त हैं, और फिर सुधांशु ने कहा नहीं चाहिए मुझे ऐसी दोस्ती और उसके बाद शुभांशु ने कोचिंग भी छोड़ दी,

और फिर शुभांशु अकेला रहने लगा, दिशा को कोई फर्क नहीं पड़ता था क्योंकि वह एक मतलबी लड़के थे उसको सिर्फ अपने काम से मतलब होता था, और जब से शुभांशु ने उससे बात करना बंद कर दिया उसके बाद से विशाल को पढ़ाई में बहुत प्रॉब्लम्स आने लगी, बहुत सारी चीजों में उसको दिक्कत आने लगी, और फिर उसने एक दिन शुभांशु को कॉल किया, और कहां प्लीज मेरी लाइफ में वापस जाओ, मैं तुमसे सच में प्यार करती हूं, शुभांशु ने कहा मुझे नहीं चाहिए तुम्हारा प्यार, और यह बोलकर कॉल काट दिया

यार ऐसी लड़की क्यों होती है,😞😞 जब उसको प्यार करना ही नहीं होता है तो, किसी के साथ टाइम पास क्यों करती है, क्यों किसी के दिल के साथ खेलती है, अच्छे खासे लड़के को, रूला देती है, 😭

अब ऐसे 3 साल बीत गए, एक दिन शुभांशु को instagram पर एक लड़की का मैसेज आया, उसका नाम प्रिशा था, वह दूसरे राज्य से थी, शुभांशु और प्रिशा की बातें होने लगी इंस्टाग्राम पर, धीरे धीरे उन दोनों की काफी बातें होने लगी, शुभांशु ने अपनी सारी Past की बातें प्रिशा से बता दी, और अब दोनों अपनी सारी बातें एक दूसरे के साथ शेयर करते थे, उन दोनों के बीच गहरी दोस्ती हो गई, फिर उनका नंबर भी एक्सचेंज हो गया, और वो लोग कॉल पर भी बात करने लगे, और दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया, लेकिन शुभांशु नहीं चाहता था कि, उसके साथ वही फिर से हो जो पहले हो चुका है, इसलिए वह अपने दिल की बात प्रिशा से नहीं बता रहा था, लेकिन सच कहूं तो दोनो एक दूसरे से बहुत ज्यादा प्यार करने लगे थे, इतना ज्यादा की अब एक दूसरे के बिना जी नहीं पायेंगे।

लेकिन एक दिन प्रिशा ने, खुद शुभांशु से अपने दिल की बात कह दी, तो शुभांशु ने कहा मैं भी तुमसे प्यार करता हूं, लेकिन मैं नहीं चाहता हूं कि, जो मेरे साथ पहले हुआ वही फिर से हो, मैं बहुत मुश्किलों से संभला हूं, तो प्रिशा ने कहा हर लड़की उस जैसी नहीं होती है, मैं तुमसे सच्चा प्यार करता हूं और मैं तुम्हें कभी नहीं छोडूंगी। 

true heart touching short love stories in Hindi

अगर इतनी प्यार करने वाली लड़की मिल जाए तो उसे कभी नही छोड़ना चाहिए, क्योंकि ऐसी लड़की नसीब से मिलती है।

और फिर शुभांशु मान गया, लेकिन उन दोनों के बीच दो समस्या बहुत बड़ी थी, पहला वो दोनों का कास्ट अलग था, दूसरा वो दोनों काफी दूर थे एक दूसरे से, फिर भी उन दोनों की एक साल तक बातें हुई लेकिन 1 साल में कभी मिल नहीं पाए फिर उन दोनों ने सोचा कि इतने दिन हो गए हमारे रिलेशनशिप के तो एक बार कम से कम मिल ले, प्रिशा रोज शुभांशु से कहती थी, मुझे तुमसे मिलना है एक बार मिल लो, शुभांशु का भी बहुत मन था प्रिशा से मिलने का, लेकिन वह क्या करें उससे मिल ही नहीं पाता था, वहां जाने का कोई बहाना ही नहीं मिलता था।

फिर 1 दिन शुभांशु ने सोच लिया कि, अब मुझे प्रिशा से मिलना है तो मिलना है, कैसे भी करके, तो शुभांशु के घर के बगल में एक भैया रहते थे, उसने उनको बताया तो उन्होंने कहा ठीक है मैं चलूंगा तुम्हारे साथ, लेकिन कुछ दिनों बाद, शुभांशु ने कहा ठीक है आप जब बोलोगे तब मैं चलूंगा फिर सुबह से यह बात प्रिशा से बताई, यह बात सुनकर प्रिशा बहुत ज्यादा खुश हो गई और कहने लगी शुभांशु क्या तुम सच बोल रहे हो, प्लीज मुझसे झूठ मत बोलो इन सब बातों में, फिर शुभांशु ने कहा मैं सच बोल रहा हूं, मैं जल्दी अब तुमसे मिलने आऊंगा, तो प्रिशा ने कहा मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा है, प्लीज अब तुम जल्दी जाओ।

जब पहली बार शुभांशु और प्रिशा मिले,

heart touching true love story in Hindi
Latest heart touching true love story in Hindi, प्लीज मत जाओ

 

और फिर एक दिन शुभानशु और उसके बगल के भैया दोनों प्रिशा से मिलने उसके राज्य चले गए, और वहां पर दोनों सबसे पहले बस स्टॉप पर मिले, वहां पर जब दोनों ने एक दूसरे को देखा तो दोनों बहुत ही ज्यादा खुश हो गए, और जाकर एक दूसरे को गले लगा लिया, और दोनों साथ में बहुत घूमे फिरे पानीपुरी खाये, साथ में बहुत सारी पिक्चर्स क्लिक करे, दोनों ने साथ में बैठकर खूब सारी बात करी, और शुभांशु और उसके बगल के भैया दोनों के लिए वह जगह काफी नया था, क्योंकि वहां वह दोनों कभी आए नहीं थे, तो उन दोनों ने सोचा जब यहां आए हैं, तो यहां के जगहों में घूम लेते हैं, तो प्रिशा ने उन दोनों को वहां के कुछ अच्छे अच्छे जगह घूमने ले कर गई।

और घूमने के बाद जब शुभांशु और प्रिशा बैठे हुए थे, और बातें कर रहे थे, तब उन दोनों ने बोला हम दोनों एक दूसरे से इतना दूर है, एक बार मिलने के लिए इतना इंतजार करना पड़ा, और हम दोनों का कास्ट भी अलग हैं, तो क्या हम दोनो हमेशा के लिए साथ रह पाएंगे, तब शुभांशु ने कहा हां हम रह सकते हैं हमेशा के लिए साथ, लेकिन उसके लिए हम दोनों को नौकरी लेनी होगी ताकि हम अपने अपने घरों में बता सके

और अब शुभांशु अपने घर जाने लगा, तो प्रिशा बहुत रोने लगी, प्लीज मत जाओ ना, तो शुभांशु ने कहा अब हम दोनो को साथ रहना है, हमेशा, तो मेहनत करनी पड़ेगी, तो प्रिशा ने कहा हां मैं करूंगी मेहनत खूब करूंगी, लेकिन मुझे तुम्हारे साथ ही रहना है, प्रिशा और शुभांशु दोनो पढ़ने में काफी अच्छे थे, और वो दोनो 2 साल खूब पढ़ाई किए, और उन दोनो ने 2 साल में अच्छी सी नौकरी ले ली, उसके बाद दोनो ने अपने अपने घर में बता दी, थोड़ा प्रॉब्लम हुआ लेकिन फिर दोनों के घर वाले मान गए,

और अब वो दोनों काफी खुशी खुशी रहते हैं,

इसलिए कहते हैं, अगर प्यार सच्चा हो तो वो मिल ही जाते हैं, और भगवान आपके लिए हमेशा अच्छा ही करेगे, शुभांशु को दिशा नही मिली क्योंकि वो लड़की शुभांशु के लिए सही नहीं थी, और जो लड़की सही थी वो मिल ही गई, चाहे वो उससे कितनी ही दूर क्यों थी, और चाहे कास्ट भी अलग था फिर भी,

और दोस्तो जो पास होते है, वो अगर हमे दो दिन नहीं मिलते हैं तो बुरा हाल हो जाता है, तो सोचो Long distance relationship वाले लोग कैसे कई सालो और कई महीनो तक बिना मिले रह लेते हैं,

और जो लोग ये कहते हैं की long distance relationship टिकता नहीं है, तो वो बिलकुल गलत हैं, प्यार सच्चा हो तो उन लोगों को भगवान मिलते हैं।

तो दोस्तों आपको ये heart touching true love story (in Hindi) कैसी लगी, अगर अच्छी लगे तो इसे शेयर करे और कमेंट्स जरूर करे।

More Interesting Love Story 

Long distance relationship true love story

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: